Fiction » Literature » Literary criticism

Sub-categories: Short Stories | American / General | European / English, Irish, Scottish, Welsh | Books & Reading | Poetry | Asian / General | Women Authors | Medieval | Drama | Science Fiction & Fantasy | Shakespeare | Reference | All sub-categories >>
Narrative, Nature, and the ‘Cock’ and ‘Bull’ Story: The Lockean Tristram Shandy and the Modern Novel
By
Price: $2.99 USD. Words: 12,440. Language: English. Published: September 30, 2014 by Problematic Press. Category: Essay » Literature
Laurence Sterne’s Life and Opinions of Tristram Shandy, Gentleman (1760) is one of the first English novels to stray from Aristotle's classical literary structures. Tiller's paper explores how this deviation leads Tristram, in the series of events stemming from his birth, to a more precise imitation of nature than, perhaps, adherence to such guidelines could have procured.
Lord of the Flies by William Golding: A Study Guide
By
Series: Study Guides, Book 18. Price: $3.25 USD. Words: 5,770. Language: English. Published: September 10, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
Want to understand the characters, themes and be able to develop your own ideas about the book? 80 in-depth questions guide the reader to a deeper understanding of the novel. I Also included a vocabulary activity through using the exercise which picks out key words from the texts for definition a literary terms activity two graphics (plot and character perspectives)
Antigone by Sophocles: A Study Guide
By
Series: Study Guides, Book 17. Price: $4.50 USD. Words: 9,720. Language: English. Published: September 5, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
Need help understanding Antigone? This Guide puts this third play in the trilogy by Sophocles in context. Included in the guide is the structure of Greek plays, background information on Greece, central issues of the play, its themes, questions to deepen your understanding for each section of the play. a familiarization with literary terms activity and two graphics.
Three Stories
By
Price: $1.99 USD. Words: 7,690. Language: English. Published: August 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
Three stories by award-winning Australian writer Laurie Steed in the one volume: Orbiting: Fire threatens and old loves rear their head as Sophie endures a summer of extremes. Wallpaper: Cracks start to show in the fabric of a family during their daughter's piano recital. The Lost Podcast: A father and son, one present, and one absent, share respective realities in a New Yorker Fiction Podcast
The Lost Podcast
By
Series: Short Stories, Book 1. Price: $0.99 USD. Words: 2,490. Language: English. Published: August 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
A father and son, one present, and one absent, share realities in a notably different New Yorker Fiction Podcast in 'The Lost Podcast', a story by Laurie Steed. "Laurie's enthusiasm for his craft is wonderfully infectious; his writing is honest and elegant. I recommend him in every way." – Brigid Lowry
Orbiting
By
Series: Short Stories, Book 3. Price: $0.99 USD. Words: 2,720. Language: English. Published: August 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
Fire threatens and old loves rear their head as Sophie endures a summer of extremes in 'Orbiting', a story by Laurie Steed. "Laurie Steed is one of the exciting new names in Australian writing - his stories are smart, soulful and challenging. I can't wait to see what he does next." – Paddy O'Reilly
Wallpaper
By
Series: Short Stories, Book 2. Price: $0.99 USD. Words: 2,830. Language: English. Published: August 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
(5.00 from 1 review)
Cracks start to show in the fabric of a family during their daughter's piano recital in 'Wallpaper', a story by Laurie Steed. "Laurie Steed's stories are sometimes tender, sometimes brutal, and always beautifully written. He is a writer to watch." – Ryan O'Neill
Glass Eyes: A Short Story about a Family's Struggle
By
Price: Free! Words: 4,600. Language: English. Published: July 21, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
Five-year-old Kate struggles to understand what is happening to her world as she witnesses her father's deepening depression. In the midst of her family’s turmoil, Kate finds solace in her grandfather’s upstairs apartment, though she is troubled by the stuffed fox in his bedroom. As Kate tries to adapt to the changes in her life, the fox becomes a symbol of what she fears.
Two Sister (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 5,650. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
दोनों बहनें दो साल के बाद एक तीसरे नातेदार के घर मिलीं और खूब रो-धोकर खुश हुईं तो बड़ी बहन रूपकुमारी ने देखा कि छोटी बहन रामदुलारी सिर से पाँव तक गहनों से लदी हुई है, कुछ उसका रंग खुल गया है, स्वभाव में कुछ गरिमा आ गयी है और बातचीत करने में ज्यादा चतुर हो गयी है। कीमती बनारसी साड़ी और बेलदार उन्नावी मखमल के जम्पर ने उसके रूप को और भी चमका दिया-वही रामदुलारी, लडक़पन में सिर के बाल खोले,
Srishti (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 6,140. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
(अदन की वाटिका, तीसरे पहर का समय। एक बड़ा सांप अपना सिर फूलों की एक क्यारी में छिपाये हुए और अपने शरीर को एक वृक्ष की शाखाओं में लपेटे हुए पड़ा है। वृक्ष भलीभांति च़ चुका है, क्योंकि सृष्टि के दिन हमारे अनुमान से कहीं अधिक बड़े थे। सर्प उस व्यक्ति को नहीं दिखाई दे सकता जिसको उसकी विद्यमानता का ज्ञान नहीं है, क्योंकि उसके हरे और भूरे रंग के मेल से धोखा होता है।
Rahsya (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 5,480. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
विमल प्रकाश ने सेवाश्रम के द्वार पर पहुँचकर जेब से रूमाल निकाला और बालों पर पड़ी हुई गर्द साफ की, फिर उसी रूमाल से जूतों की गर्द झाड़ी और अन्दर दाखिल हुआ। सुबह को वह रोज टहलने जाता है और लौटती बार सेवाश्रम की देख-भाल भी कर लेता है। वह इस आश्रम का बानी भी है, और संचालक भी। सेवाश्रम का काम शुरू हो गया था। अध्यापिकाएँ लड़कियों को पढ़ा रही थीं, माली फूलों की क्यारियों में पानी दे रहा था
Namak ka Droga (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 3,290. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
जब नमक का नया विभाग बना और ईश्वरप्रदत्त वस्तु के व्यवहार करने का निषेध हो गया तो लोग चोरी-छिपे इसका व्यापार करने लगे। अनेक प्रकार के छल-प्रपंचों का सूत्रपात हुआ, कोई घूस से काम निकालता था, कोई चालाकी से। अधिकारियों के पौ-बारह थे। पटवारीगिरी का सर्वसम्मानित पद छोड-छोडकर लोग इस विभाग की बरकंदाजी करते थे। इसके दारोगा पद के लिए तो वकीलों का भी जी ललचाता था।
Meri Pahli Rachna (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 1,990. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
उस वक्त मेरी उम्र कोई १३ साल की रही होगी। हिन्दी बिल्कुल न जानता था। उर्दू के उपन्यास पढ़ने-लिखने का उन्माद था। मौलाना शरर, पं० रतननाथ सरशार, मिर्जा रुसवा, मौलवी मुहम्मद अली हरदोई निवासी, उस वक्त के सर्वप्रिय उपन्यासकार थे। इनकी रचनाएँ जहाँ मिल जाती थीं, स्कूल की याद भूल जाती थी और पुस्तक समाप्त करके ही दम लेता था। उस जमाने में रेनाल्ड के उपन्यासों की धूम थी। उर्दू में उनके अनुवाद धड़ाधड़ निकल रहे
Manovratti Aur Lanchan (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 6,260. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
मनोवृत्ति एक सुंदर युवती, प्रात:काल, गाँधी-पार्क में बिल्लौर के बेंच पर गहरी नींद में सोयी पायी जाय, यह चौंका देनेवाली बात है। सुंदरियाँ पार्कों में हवा खाने आती हैं, हँसती हैं, दौड़ती हैं, फूल-पौधों से खेलती हैं, किसी का इधर ध्यान नहीं जाता; लेकिन कोई युवती रविश के किनारे वाले बेंच पर बेखबर सोये, यह बिलकुल गैर मामूली बात है, अपनी ओर बल-पूर्वक आकर्षित करने वाली। रविश पर कितने आदमी चहलकदमी कर रहे
Mangal Sutra (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 15,200. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
प्रेमचन्द का जन्म ३१ जुलाई सन् १८८० को बनारस शहर से चार मील दूर समही गाँव में हुआ था। आपके पिता का नाम अजायब राय था। वह डाकखाने में मामूली नौकर के तौर पर काम करते थे। आपके पिता ने केवल १५ साल की आयू में आपका विवाह करा दिया। विवाह के एक साल बाद ही पिताजी का देहान्त हो गया। अपनी गरीबी से लड़ते हुए प्रेमचन्द ने अपनी पढ़ाई मैट्रिक तक पहुंचाई। जीवन के आरंभ में आप अपने गाँव से दूर बनारस पढ़ने के लिए
Kafan (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 3,070. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
झोपड़े के द्वार पर बाप और बेटा दोनों एक बुझे हुए अलाव के सामने चुपचाप बैठे हुए हैं और अन्दर बेटे की जवान बीबी बुधिया प्रसव-वेदना में पछाड़ खा रही थी। रह-रहकर उसके मुँह से ऐसी दिल हिला देने वाली आवाज़ निकलती थी, कि दोनों कलेजा थाम लेते थे। जाड़ों की रात थी, प्रकृति सन्नाटे में डूबी हुई, सारा गाँव अन्धकार में लय हो गया था। घीसू ने कहा-मालूम होता है, बचेगी नहीं। सारा दिन दौड़ते हो गया, जा देख तो आ।
Holi Ka Uphar (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 2,150. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
मैकूलाल अमरकान्त के घर शतरंज खेलने आये, तो देखा, वह कहीं बाहर जाने की तैयारी कर रहे हैं। पूछा-कहीं बाहर की तैयारी कर रहे हो क्या भाई? फुरसत हो, तो आओ, आज दो-चार बाजियाँ हो जाएँ। अमरकान्त ने सन्दूक में आईना-कंघी रखते हुए कहा-नहीं भाई, आज तो बिलकुल फुरसत नहीं है। कल जरा ससुराल जा रहा हूँ। सामान-आमान ठीक कर रहा हूँ। मैकू-तो आज ही से क्या तैयारी करने लगे? चार कदम तो हैं। शायद पहली बार जा रहे हो?
Grah Niti Aur Naya Vivah (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 9,820. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
गृह-नीति जब माँ, बेटे से बहू की शिकायतों का दफ्तर खोल देती है और यह सिलसिला किसी तरह खत्म होते नजर नहीं आता, तो बेटा उकता जाता है और दिन-भर की थकान के कारण कुछ झुँझलाकर माँ से कहता है, 'तो आखिर तुम मुझसे क्या करने को कहती हो अम्माँ ? मेरा काम स्त्री को शिक्षा देना तो नहीं है। यह तो तुम्हारा काम है ! तुम उसे डाँटो, मारो,जो सजा चाहे दो। मेरे लिए इससे ज्यादा खुशी की और क्या बात हो सकती है...
Ghaswali Aur Dil ki Rani (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 11,220. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
घासवाली मुलिया हरी-हरी घास का गट्ठा लेकर आयी, तो उसका गेहुआँ रंग कुछ तमतमाया हुआ था और बड़ी-बड़ी मद-भरी आँखो में शंका समाई हुई थी। महावीर ने उसका तमतमाया हुआ चेहरा देखकर पूछा- क्या है मुलिया, आज कैसा जी है। मुलिया ने कुछ जवाब न दिया- उसकी आँखें डबडबा गयीं! महावीर ने समीप आकर पूछा- क्या हुआ है, बताती क्यों नहीं? किसी ने कुछ कहा है, अम्माँ ने डाँटा है, क्यों इतनी उदास है?
Ghar Jamai Aur Dhikkar (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 10,320. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
घर जमाई हरिधन जेठ की दुपहरी में ऊख में पानी देकर आया और बाहर बैठा रहा। घर में से धुआँ उठता नजर आता था। छन-छन की आवाज भी आ रही थी। उसके दोनों साले उसके बाद आये और घर में चले गए। दोनों सालों के लड़के भी आये और उसी तरह अंदर दाखिल हो गये; पर हरिधन अंदर न जा सका। इधर एक महीने से उसके साथ यहाँ जो बर्ताव हो रहा था और विशेषकर कल उसे जैसी फटकार सुननी पड़ी थी, वह उसके पाँव में बेड़ियाँ-सी डाले हुए था।