Special Deals

Fiction » Literary collections

You're viewing books that have coupons you can use to get special deals. View all books in this category.
Sub-categories: American / General | Russian & Former Soviet Union | Australian & Oceanian | Female authors | European / English, Irish, Scottish, Welsh | African | Asian / General | Caribbean & Latin American | European / Scandinavian | Canadian | European / Eastern Russian & Former Soviet Union | Gay & lesbian | All sub-categories >>
Anupama Ka Prem (Hindi)
Price: $0.99 USD. (Free until Feb. 28!) Words: 2,950. Language: Hindi. Published: June 27, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Fiction » Literary collections » Asian / General
ग्यारह वर्ष की आयु से ही अनुपमा उपन्यास पढ़-पढ़कर मष्तिष्क को एकदम बिगाड़ बैठी थी। वह समझती थी, मनुष्य के हृदय में जितना प्रेम, जितनी माधुरी, जितनी शोभा, जितना सौंदर्य, जितनी तृष्णा है, सब छान-बीनकर, साफ कर उसने अपने मष्तिष्क के भीतर जमा कर रखी है। मनुष्य- स्वभाव, मनुष्य-चरित्र, उसका नख दर्पण हो गया है। संसार में उसके लिए सीखने योग्य वस्तु और कोई नही है, सबकुछ जान चुकी है, सब कुछ सीख चुकी है।
Aahuti (Hindi)
Price: $0.99 USD. (Free until Feb. 28!) Words: 3,480. Language: Hindi. Published: June 27, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Fiction » Literary collections » Asian / General
आनन्द ने गद्देदार कुर्सी पर बैठकर सिगार जलाते हुए कहा-आज विशम्भर ने कैसी हिमाकत की! इम्तहान करीब है और आप आज वालण्टियर बन बैठे। कहीं पकड़ गये, तो इम्तहान से हाथ धोएँगे। मेरा तो खयाल है कि वजीफ़ा भी बन्द हो जाएगा। सामने दूसरे बेंच पर रूपमणि बैठी एक अखबार पढ़ रही थी। उसकी आँखें अखबार की तरफ थीं; पर कान आनन्द की तरफ लगे हुए थे। बोली-यह तो बुरा हुआ। तुमने समझाया नहीं?
11 Vars Ka Samay (Hindi)
Price: $0.99 USD. (Free until Feb. 28!) Words: 5,510. Language: Hindi. Published: June 27, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Fiction » Literary collections » Asian / General
दिन-भर बैठे-बैठे मेरे सिर में पीड़ा उत्‍पन्‍न हुई : मैं अपने स्‍थान से उठा और अपने एक नए एकांतवासी मित्र के यहाँ मैंने जाना विचारा। जाकर मैंने देखा तो वे ध्‍यान-मग्‍न सिर नीचा किए हुए कुछ सोच रहे थे। मुझे देखकर कुछ आश्‍चर्य नहीं हुआ; क्‍योंकि यह कोई नई बात नहीं थी। उन्‍हें थोड़े ही दिन पूरब से इस देश मे आए हुआ है। नगर में उनसे मेरे सिवा और किसी से विशेष जान-पहिचान नहीं है;