Fiction » Literature

Sub-categories: Literary | Plays & Screenplays 
Time Like Masks
Price: $0.99 USD. Words: 4,420. Language: English. Published: September 7, 2014. Categories: Fiction » Literary collections » Native American, Fiction » Literature » Literary
In this short story "Time Like Masks," Carl must learn to overcome his worst fear. He discovers that his tribal culture has the answer. With the help of a distant relative and a lost Cherokee custom, he is empowered to confront the very thing that could destroy him.
The Sweetest of Memories: A Short Story
Price: $0.99 USD. Words: 5,950. Language: English. Published: May 14, 2018. Categories: Fiction » Literature » Literary
Jack has it all. A rich family, a promising career, and a beautiful wife. But when a tragic event leads to the unraveling of his perfect world, he begins to question the meaning of his life.
Our Dance
Price: $0.99 USD. Words: 3,130. Language: English. Published: August 2, 2014. Categories: Fiction » Literature » Literary, Fiction » Literary collections » Native American
In this short story, "Our Dance," two cousins (one high spirited and the other too serious) receive a lump sum of money from the Kiowa Tribe of Oklahoma. Journey with these young men as they take missteps into adulthood and learn in both comical and cringing ways.
स्कूल का दादा (मनोरंजक व शिक्षाप्रद बालकथाएँ)
Price: $2.00 USD. Words: 5,330. Language: Hindi. Published: May 24, 2018. Categories: Fiction » Literature » Plays & Screenplays
इसी पुस्तक से.... “नहीं पिताजी, आज से मेरा जन्मदिन केक से नहीं; बल्कि इन नन्हें पौधों के रोपने से मनेगा।” “बच्चों! मुझे व इस देश को तुम पर गर्व है। निश्चय ही अपने विद्यालय की भांति ही देश के वातावरण को भी हरा-भरा बनाने में सफल होगे।” “कभी-कभी प्रार्थना के बाद भारत माता की जय की आवाज सुनकर वह भी अपना हाथ ऊपर कर देता। पर उसकी आवाज सुनायी नहीं पड़ती। वह बोल नहीं पाता था; लेकिन उसकी आंखों में पढ़ने और
नाही है कोई ठिकाना (कहानी)
Price: $1.00 USD. Words: 5,230. Language: Hindi. Published: May 17, 2018. Categories: Fiction » Literature » Literary
छोटकू बाबू साहेब कब से चटोरी के बाबा केसर से पता नहीं का खुसर - फुसर कर रहे थे कि चटोरी की माई लाजवंती एकदम बेचैन हुए आंगन से ओसारी और ओसारी से आंगन कर रही थी। लगा कि उसके पेट में मरोड़ होने लगी। चापाकल से टूटहिया प्लास्टिक की बाल्टी में पानी भर कर चली गई, घर के पिछूती! वहां से आने के बाद भी वह हल्की नहीं हुई। माटी से हाथ मांज और हाथ - पैर धो फिर ओसारी में आई। देखा, अब छोटकू बाबू साहेब खटिया से उठे