Books tagged: hindi book by premchand

These results show books which have been specifically tagged with this keyword. You can also try doing a general search for the term "hindi book by premchand" .
You can also limit results to books that contain two tags.
Some content may be filtered out. To view such content, change your filtering option.

Found 32 results

Gaban (गबन)
Price: $3.00 USD. Words: 107,390. Language: Hindi. Published: November 15, 2015 by Durlabh eSahitya Corner. Categories: Fiction » Literary collections » Asian / General
यह उपन्यास भारत की आजादी के पूर्व की पृष्ठभूमि में सेट मुंशी प्रेमचंद की सबसे प्रतिष्ठित उपन्यासों में से एक है। इस कहानी में नैतिक रूप से कमजोर युवक रमानाथ अपनी खूबसूरत पत्नी की लालसा को पूरा करने के क्रम में जटिल आर्थिक संकट में फसकर पलायनवादी हो जाता है...
Prema (प्रेमा)
Price: $2.50 USD. Words: 37,930. Language: Hindi. Published: November 14, 2015 by Durlabh eSahitya Corner. Categories: Fiction » Literary collections » Asian / General
इस उपन्यास के नायक बाबू अमृतराय का विवाह ‘प्रेमा’ नामक युवती से होना तय हुआ था, लेकिन कुदरत की इह लीला के कारण तब ऐसा नहीं हो सका। इस कथानक में समाज सुधारक बाबू अमृतराय ने ‘एक विधवा को अपना जीवन संगिनी बनाकर ‘विधवा विवाह’ का विरोध करने वाले समाज के पोंगा पंडितों को गहरी सीख दी है...
Durgadas (Hindi)
Price: $1.99 USD. Words: 23,320. Language: Hindi. Published: October 23, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
जोधपुर के महाराज जसवन्तसिंह की सेना में आशकरण नाम के एक राजपूत सेनापति थे, बड़े सच्चे, वीर, शीलवान् और परमार्थी। उनकी बहादुरी की इतनी धाक थी, कि दुश्मन उनके नाम से कांपते थे। दोनों दयावान् ऐसे थे कि मारवाड़ में कोई अनाथ न था।, जो उनके दरबार से निराश लौटे। जसवन्तसिंह भी उनका :बड़ा आदर-सत्कार करते थे। वीर दुर्गादास उन्हीं के लड़के थे। छोटे का नाम जसकरण था।
Vardan
Price: $2.99 USD. Words: 46,840. Language: Hindi. Published: October 23, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Nonfiction » Literary criticism » Short Stories, Fiction » Literature » Literary
विन्घ्याचल पर्वत मध्यरात्रि के निविड़ अन्धकार में काल देव की भांति खड़ा था। उस पर उगे हुए छोटे-छोटे वृक्ष इस प्रकार दष्टिगोचर होते थे, मानो ये उसकी जटाएं है और अष्टभुजा देवी का मन्दिर जिसके कलश पर श्वेत पताकाएं वायु की मन्द-मन्द तरंगों में लहरा रही थीं, उस देव का मस्तक है मंदिर में एक झिलमिलाता हुआ दीपक था, जिसे देखकर किसी धुंधले तारे का मान हो जाता था।
Mansarovar - Part 5-8 (Hindi)
Series: Mansarovar Part 1-8. Price: $5.99 USD. Words: 383,540. Language: Hindi. Published: September 28, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
मानसरोवर - भाग 5 मंदिर | निमंत्रण | रामलीला | कामना तरु | हिंसा परम धर्म | बहिष्कार | चोरी | लांछन | सती | कजाकी | आसुँओं की होली | अग्नि-समाधि | सुजान भगत | पिसनहारी का कुआँ | सोहाग का शव | आत्म-संगीत | एक्ट्रेस | ईश्वरीय न्याय | ममता | मंत्र | प्रायश्चित | कप्तान साहब | इस्तीफा | मानसरोवर - भाग 6 यह मेरी मातृभूमि है | राजा हरदौल | त्यागी का प्रेम | रानी सारन्धा | शाप | मर्यादा की वेदी | मृत्यु
Mansarovar - Part 8 (Hindi)
Series: Mansarovar Part 1-8. Price: $2.99 USD. Words: 97,020. Language: Hindi. Published: September 28, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
मानसरोवर - भाग 8 खून सफेद गरीब की हाय बेटी का धन धर्मसंकट सेवा-मार्ग शिकारी राजकुमार बलिदान बोध सच्चाई का उपहार ज्वालामुखी पशु से मनुष्य मूठ ब्रह्म का स्वांग विमाता बूढ़ी काकी हार की जीत दफ्तरी विध्वंस स्वत्व-रक्षा पूर्व-संस्कार दुस्साहस बौड़म गुप्तधन आदर्श विरोध विषम समस्या अनिष्ट शंका सौत सज्जनता का दंड नमक का दारोगा उपदेश परीक्षा
Mansarovar - Part 7 (Hindi)
Series: Mansarovar Part 1-8. Price: $2.99 USD. Words: 93,400. Language: English. Published: September 26, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
मानसरोवर - भाग 7 जेल पत्नी से पति शराब की दुकान जुलूस मैकू समर-यात्रा शान्ति बैंक का दिवाला आत्माराम दुर्गा का मन्दिर बड़े घर की बेटी पंच-परमेश्वर शंखनाद जिहाद फातिहा वैर का अंत दो भाई महातीर्थ विस्मृति प्रारब्ध सुहाग की साड़ी लोकमत का सम्मान नाग-पूजा ---------------------------------- मृदुला मैजिस्ट्रेट के इजलास से ज़नाने जेल में वापस आयी, तो उसका मुख प्रसन्न था। बरी हो जाने की गुलाबी आशा उसके कपोल
Mansarovar - Part 6 (Hindi)
Series: Mansarovar Part 1-8. Price: $2.99 USD. Words: 91,830. Language: Hindi. Published: September 25, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
मानसरोवर - भाग 6 यह मेरी मातृभूमि है राजा हरदौल त्यागी का प्रेम रानी सारन्धा शाप मर्यादा की वेदी मृत्यु के पीछे पाप का अग्निकुंड आभूषण जुगनू की चमक गृह-दाह धोखा लाग-डाट अमावस्या की रात्रि चकमा पछतावा आप-बीती राज्य-भक्त अधिकार-चिन्ता दुराशा (प्रहसन) -------------------------- आज पूरे 60 वर्ष के बाद मुझे मातृभूमि-प्यारी मातृभूमि के दर्शन प्राप्त हुए हैं। जिस समय मैं अपने प्यारे देश से विदा हुआ था
Mansarovar - Part 1-4 (Hindi)
Series: Mansarovar Part 1-8. Price: $5.99 USD. Words: 405,740. Language: Hindi. Published: September 23, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
मानसरोवर - भाग 1 अलग्योझा | ईदगाह | माँ | बेटोंवाली विधवा | बड़े भाई साहब | शांति | नशा | स्‍वामिनी | ठाकुर का कुआँ | घर जमाई | पूस की रात | झाँकी | गुल्‍ली-डंडा | ज्योति | दिल की रानी | धिक्‍कार | कायर | शिकार | सुभागी | अनुभव | लांछन | आखिरी हीला | तावान | घासवाली | गिला | रसिक संपादक | मनोवृत्ति
Mansarovar - Part 5 (Hindi)
Series: Mansarovar Part 1-8. Price: $2.99 USD. Words: 102,510. Language: Hindi. Published: September 22, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Nonfiction » Literary criticism » Short Stories, Fiction » Literature » Literary
मानसरोवर - भाग 5 मंदिर निमंत्रण रामलीला कामना तरु हिंसा परम धर्म बहिष्कार चोरी लांछन सती कजाकी आसुँओं की होली अग्नि-समाधि सुजान भगत पिसनहारी का कुआँ सोहाग का शव आत्म-संगीत एक्ट्रेस ईश्वरीय न्याय ममता मंत्र प्रायश्चित कप्तान साहब इस्तीफा --------------------------- मातृ-प्रेम, तुझे धान्य है ! संसार में और जो कुछ है, मिथ्या है, निस्सार है। मातृ-प्रेम ही सत्य है, अक्षय है, अनश्वर है। ...