Books tagged: hindi story books

The adult filter is active; there may be additional content. To view this content, click the "Adult Content" button above to change your filtering option.

Found 37 results

Durgadas (दुर्गादास)
Price: $2.00 USD. Words: 22,830. Language: Hindi. Published: November 22, 2015 by Durlabh eSahitya Corner. Categories: Fiction » Literary collections » Asian / General
‘दुर्गादास’ उपन्यास मुंशी प्रेमचन्द का एक ऐतिहासिक उपन्यास है। इसमें राष्ट्रप्रेमी, साहसी राजपूत दुर्गादास के संघर्षपूर्ण जीवन की कहानी है। वीर दुर्गादास अपने अनूठे आत्म-त्याग, अपनी निःस्वार्थ सेवा-भक्ति के लिए एक महान योद्धा के समान हैं। प्रस्तुत उपन्यास में दुर्गादास शूर होकर भी साधु पुरुष थे।
दे दना दन
Price: $2.99 USD. Words: 130. Language: Hindi. Published: December 22, 2015. Categories: Fiction » Children’s books » Family / Parents, Fiction » Children’s books » Fairy Tales & Folklore / Country & Ethnic
"De Dana Dan" is a Hindi Children's picture book and is written in Hind script and in Hindi using English script. "De Dana Dan" ek mazedar, gudgudane waali kahani hain. Is kahani mein murge hain, murgiyan hain, aur ek drusht kouwa hai.
Mangalsutra (मंगलसूत्र)
Price: $2.00 USD. Words: 23,770. Language: Hindi. Published: October 4, 2015 by Durlabh eSahitya Corner. Categories: Fiction » Literary collections » Asian / General
प्रेमचंद के इस उपन्यास ‘मंगलसूत्र’ में कैसे एक नारी का जीवन शादी के बाद बदल जाता है और किस प्रकार से उसे हर कदम पर अपने मंगलसूत्र का मान रखना पड़ता है…
Vardan
Price: $2.99 USD. Words: 46,840. Language: Hindi. Published: October 23, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Nonfiction » Literary criticism » Short Stories, Fiction » Literature » Literary
विन्घ्याचल पर्वत मध्यरात्रि के निविड़ अन्धकार में काल देव की भांति खड़ा था। उस पर उगे हुए छोटे-छोटे वृक्ष इस प्रकार दष्टिगोचर होते थे, मानो ये उसकी जटाएं है और अष्टभुजा देवी का मन्दिर जिसके कलश पर श्वेत पताकाएं वायु की मन्द-मन्द तरंगों में लहरा रही थीं, उस देव का मस्तक है मंदिर में एक झिलमिलाता हुआ दीपक था, जिसे देखकर किसी धुंधले तारे का मान हो जाता था।
Mansarovar - Part 8 (Hindi)
Price: $2.99 USD. Words: 97,020. Language: Hindi. Published: September 28, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
मानसरोवर - भाग 8 खून सफेद गरीब की हाय बेटी का धन धर्मसंकट सेवा-मार्ग शिकारी राजकुमार बलिदान बोध सच्चाई का उपहार ज्वालामुखी पशु से मनुष्य मूठ ब्रह्म का स्वांग विमाता बूढ़ी काकी हार की जीत दफ्तरी विध्वंस स्वत्व-रक्षा पूर्व-संस्कार दुस्साहस बौड़म गुप्तधन आदर्श विरोध विषम समस्या अनिष्ट शंका सौत सज्जनता का दंड नमक का दारोगा उपदेश परीक्षा
Mansarovar - Part 5 (Hindi)
Price: $2.99 USD. Words: 102,510. Language: Hindi. Published: September 22, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Nonfiction » Literary criticism » Short Stories, Fiction » Literature » Literary
मानसरोवर - भाग 5 मंदिर निमंत्रण रामलीला कामना तरु हिंसा परम धर्म बहिष्कार चोरी लांछन सती कजाकी आसुँओं की होली अग्नि-समाधि सुजान भगत पिसनहारी का कुआँ सोहाग का शव आत्म-संगीत एक्ट्रेस ईश्वरीय न्याय ममता मंत्र प्रायश्चित कप्तान साहब इस्तीफा --------------------------- मातृ-प्रेम, तुझे धान्य है ! संसार में और जो कुछ है, मिथ्या है, निस्सार है। मातृ-प्रेम ही सत्य है, अक्षय है, अनश्वर है। ...
Ramcharcha (Hindi)
Price: $2.99 USD. Words: 44,030. Language: Hindi. Published: July 10, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Nonfiction » Literary criticism » Short Stories, Fiction » Religious
प्यारे बच्चो! तुमने विजयदशमी का मेला तो देखा ही होगा। कहींकहीं इसे रामलीला का मेला भी कहते हैं। इस मेले में तुमने मिट्टी या पीतल के बन्दरों और भालुओं के से चेहरे लगाये आदमी देखे होंगे। राम, लक्ष्मण और सीता को सिंहासन पर बैठे देखा होगा और इनके सिंहासन के सामने कुछ फासले पर कागज और बांसों का बड़ा पुतला देखा होगा। इस पुतले के दस सिर और बीस हाथ देखे होंगे। वह रावण का पुतला है।
Two Sister (Hindi)
Price: $0.99 USD. Words: 5,650. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
दोनों बहनें दो साल के बाद एक तीसरे नातेदार के घर मिलीं और खूब रो-धोकर खुश हुईं तो बड़ी बहन रूपकुमारी ने देखा कि छोटी बहन रामदुलारी सिर से पाँव तक गहनों से लदी हुई है, कुछ उसका रंग खुल गया है, स्वभाव में कुछ गरिमा आ गयी है और बातचीत करने में ज्यादा चतुर हो गयी है। कीमती बनारसी साड़ी और बेलदार उन्नावी मखमल के जम्पर ने उसके रूप को और भी चमका दिया-वही रामदुलारी, लडक़पन में सिर के बाल खोले,
Srishti (Hindi)
Price: $0.99 USD. Words: 6,140. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Nonfiction » Literary criticism » Short Stories, Fiction » Literature » Literary
(अदन की वाटिका, तीसरे पहर का समय। एक बड़ा सांप अपना सिर फूलों की एक क्यारी में छिपाये हुए और अपने शरीर को एक वृक्ष की शाखाओं में लपेटे हुए पड़ा है। वृक्ष भलीभांति च़ चुका है, क्योंकि सृष्टि के दिन हमारे अनुमान से कहीं अधिक बड़े थे। सर्प उस व्यक्ति को नहीं दिखाई दे सकता जिसको उसकी विद्यमानता का ज्ञान नहीं है, क्योंकि उसके हरे और भूरे रंग के मेल से धोखा होता है।
Rahsya (Hindi)
Price: $0.99 USD. Words: 5,480. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications & Sai Shop. Categories: Fiction » Literature » Literary, Nonfiction » Literary criticism » Short Stories
विमल प्रकाश ने सेवाश्रम के द्वार पर पहुँचकर जेब से रूमाल निकाला और बालों पर पड़ी हुई गर्द साफ की, फिर उसी रूमाल से जूतों की गर्द झाड़ी और अन्दर दाखिल हुआ। सुबह को वह रोज टहलने जाता है और लौटती बार सेवाश्रम की देख-भाल भी कर लेता है। वह इस आश्रम का बानी भी है, और संचालक भी। सेवाश्रम का काम शुरू हो गया था। अध्यापिकाएँ लड़कियों को पढ़ा रही थीं, माली फूलों की क्यारियों में पानी दे रहा था