Books tagged: laghukatha

These results show books which have been specifically tagged with this keyword. You can also try doing a general search for the term "laghukatha" .
You can also limit results to books that contain two tags.
Some content may be filtered out. To view such content, change your filtering option.

Found 5 results

Laghukatha Manjusha
Price: $2.00 USD. Words: 39,060. Language: Hindi. Published: July 31, 2018. Categories: Fiction » Literature » Literary
'लघुकथा मंजूषा' शृंखला की दूसरी पुस्तक लघुकथा मंजूषा-2 नए प्रयोग के साथ प्रस्तुत की जा रही है। इस प्रयोग के तहत पुस्तक को तीन भागों में बांटा गया है। पहले भाग में, अनुपस्थित लघुकथाकारों की उपस्थित लघुकथाएं रखी गई हैं (अर्थात वे लघुकथाकार, जो अब इस दुनिया में नहीं हैं, किन्तु उनकी लघुकथाएं आज भी उनकी उपस्थिति दर्ज कराने में सक्षम हैं।), ताकि नियमों में उलझने की बजाय लघुकथाकार प्रभावी लघुकथाओं को पढ़
अपनी-अपनी व्यथा (लघुकथा संग्रह)
Price: $1.00 USD. Words: 14,360. Language: Hindi. Published: May 12, 2018. Categories: Fiction » Literature » Plays & Screenplays
खुशियां जब मिलती हैं तो मन को लुभाती है। ये हरेक चीज से मिल सकती है। किसी से मिलने पर खुशी मिलती है। कभी सम्मान मिलने पर हम इसे प्राप्त करते हैं। कभी पुस्तक छपने पर मन प्रफुल्लित हो जाता है। कभी कोई रिश्ता बन जाए तो मन खुशियों से भर जाता है। ये सब खुशियां प्राप्ति के रास्ते हैं। जो जाने-अनजाने हमें प्राप्त होते हैं। बहुत अच्छा लगता है जब अच्छेअच्छे काम होते हैं। अच्छे-अच्छे लोग मिलते हैं। उन से ह
थोड़ा सा पानी
Price: $1.00 USD. Words: 14,660. Language: Hindi. Published: March 22, 2018. Categories: Fiction » Poetry » Contemporary Poetry
मैं राजेश मेहरा मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक हूँ। मैं दिल्ली में रहता हूँ। मुझे लेख, कविताएँ, लघुकथाएँ व कहानियाँ लिखने का शौक है। बचपन से ही मैं किताबों और कहानियों का शौक़ीन रहा हूँ। मेरा मानना है कि आज की भाग-दौड़ और तनाव भरी जिन्दगी में कहानियों के सपनों में जीने से ही आदमी अपनी कुछ उम्र बढ़ा सकता है। मैं राजेश मेहरा मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक हूँ। मैं दिल्ली में रहता हूँ। मुझे लेख,
Athwani - 2
Price: $1.79 USD. Words: 23,880. Language: Marathi. Published: July 31, 2015. Categories: Fiction » Literary collections » Female authors, Fiction » Literary collections » Asian / Indic
Athwani – 2 is a sequel to Athwani – 1 with more stories from Manaswini's life experiences. The focus shifts to delivering finer details of incidents than being pure memoirs. Story lines include people and society, childhood times, experiences as a teacher and living abroad. Lucid backgrounds, direct narrations, comparisons and subtle messages make this volume a treatise to Marathi readers!
Athwani - 1
Price: $1.79 USD. Words: 14,410. Language: Marathi. Published: May 28, 2015. Categories: Fiction » Literary collections » Female authors, Fiction » Literary collections » Asian / Indic
Athwani - 1 is the first instalment of Manaswini's short stories written in 'laghukatha' style. Each story is a lucid narration as if she is talking to us readers, telling us stories from her grandma's times, her mom's and the present as if she has lived through it all. Some are real stories and others based on her life experiences. An entertaining light read, quite addictive!