Books tagged: poems about facebook

The adult filter is active; there may be additional content. To view this content, click the "Adult Content" button above to change your filtering option.

Found 1 result

गूंज बांवरी
Price: $3.94 USD. Words: 24,030. Language: English. Published: February 18, 2016. Categories: Fiction » Poetry » Eastern European Poetry
“गूंज बांवरी” एक गूंज है एक आवाज़ मेरे भीतर की जिसमें तुम हो मेरे साथ तुम ही प्रेरणा हो, तुम ही मेरे कागज़ कलम का साथी मैं तो जानती ही नहीं थी लिखना पर तुम जब जब आ कर बैठे मेरी कुर्सी पर मेरे भीतर से मैं ज़िंदा हो गयी, तुम हर वक़्त आस पास हो, मुझे प्रेरित करते कभी मुझे खींच खींच कर बाहर निकालते तुम्हे नहीं देखा कभी, कभी सामने भी नहीं आये बस मेरी हर कविता बनते गये, जो प्रमाण है, तुम्हारे होने