Ghar Jamai Aur Dhikkar (Hindi)

घर जमाई

हरिधन जेठ की दुपहरी में ऊख में पानी देकर आया और बाहर बैठा रहा। घर में से धुआँ उठता नजर आता था। छन-छन की आवाज भी आ रही थी। उसके दोनों साले उसके बाद आये और घर में चले गए। दोनों सालों के लड़के भी आये और उसी तरह अंदर दाखिल हो गये; पर हरिधन अंदर न जा सका। इधर एक महीने से उसके साथ यहाँ जो बर्ताव हो रहा था और विशेषकर कल उसे जैसी फटकार सुननी पड़ी थी, वह उसके पाँव में बेड़ियाँ-सी डाले हुए था। More

Available ebook formats: epub

Price: $0.99
Free! USD
Buy with coupon Use the code NU83K at checkout to get this book for free
(Offer good through Feb. 28, 2020 ) Add to Library Give as a Gift

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book