Grah Niti Aur Naya Vivah (Hindi)

गृह-नीति

जब माँ, बेटे से बहू की शिकायतों का दफ्तर खोल देती है और यह सिलसिला किसी तरह खत्म होते नजर नहीं आता, तो बेटा उकता जाता है और दिन-भर की थकान के कारण कुछ झुँझलाकर माँ से कहता है,

'तो आखिर तुम मुझसे क्या करने को कहती हो अम्माँ ? मेरा काम स्त्री को शिक्षा देना तो नहीं है। यह तो तुम्हारा काम है ! तुम उसे डाँटो, मारो,जो सजा चाहे दो। मेरे लिए इससे ज्यादा खुशी की और क्या बात हो सकती है... More

Available ebook formats: epub

Price: $0.99
Free! USD
Buy with coupon Use the code NU83K at checkout to get this book for free
(Offer good through Feb. 28, 2020 ) Add to Library Give as a Gift

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book