Holi Ka Uphar (Hindi)

मैकूलाल अमरकान्त के घर शतरंज खेलने आये, तो देखा, वह कहीं बाहर जाने की तैयारी कर रहे हैं। पूछा-कहीं बाहर की तैयारी कर रहे हो क्या भाई? फुरसत हो, तो आओ, आज दो-चार बाजियाँ हो जाएँ।

अमरकान्त ने सन्दूक में आईना-कंघी रखते हुए कहा-नहीं भाई, आज तो बिलकुल फुरसत नहीं है। कल जरा ससुराल जा रहा हूँ। सामान-आमान ठीक कर रहा हूँ।

मैकू-तो आज ही से क्या तैयारी करने लगे? चार कदम तो हैं। शायद पहली बार जा रहे हो? More

Available ebook formats: epub

Price: $0.99
Free! USD
Buy with coupon Use the code NU83K at checkout to get this book for free
(Offer good through Feb. 28, 2020 ) Add to Library Give as a Gift

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book