Kankaal (Hindi)

प्रतिष्ठान के खँडहर में और गंगा-तट की सिकता-भूमि में अनेक शिविर और फूस के झोंपड़े खड़े हैं। माघ की अमावस्या की गोधूली में प्रयाग में बाँध पर प्रभात का-सा जनरव और कोलाहल तथा धर्म लूटने की धूम कम हो गयी है; परन्तु बहुत-से घायल और कुचले हुए अर्धमृतकों की आर्तध्वनि उस पावन प्रदेश को आशीर्वाद दे रही है। स्वयं-सेवक उन्हें सहायता पहुँचाने में व्यस्त हैं। यों तो प्रतिवर्ष यहाँ पर जन-समूह एकत्र होता है... More

Available ebook formats: epub

Price: $0.99
Free! USD
Buy with coupon Use the code NU83K at checkout to get this book for free
(Offer good through Feb. 28, 2020 ) Add to Library Give as a Gift

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book