रूह को पनाह

'रूह को पनाह काव्य-माल में मोतियों-सी पिरोई कवितांए चमकती तो हैँ ही,साथ ही शीतलता भी प्रदान करती हैँ|इन कविताओ के माध्यम से प्रेम की जो अभिव्यक्ति हुई है वह अधुभूद है | एक ओर निःस्वार्थ प्रेम की धार दिल से फूटती है तो दूसरी ओर दैहिक प्रेम की दुर्गन्ध से मन विचलित हो जाता है | More

Available ebook formats: epub

About OnlineGatha

Publish Free Ebooks, Self Publisher,Publish your book, build a reader base and sell more copies. Available in both print and eBook formats in major online stores.Publish Fiction, Non-Fiction, Academic and Poetry books in English & Hindi.Download Free ebooks, buy online Book

Also by This Author

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book