Badkismat Katil बदकिस्मत कातिल

एक ही दिन में उसके हाथों दो क़त्ल हुए- एक उसके दुश्मन का और दूसरा उसका जिसे वो पागलपन की हद तक प्यार करता था। वह एक बदकिस्मत कातिल था। पर उसकी किस्मत कुछ ऐसी थी कि जावेद-अमर-जॉन उसे अंत तक पकड़ न सके।

Available ebook formats: epub

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book