आत्मसाक्षात्कार

जिस सुख के बाद दुःख आए, उसे सुख कैसे कहेंगे? यह तो टेम्परेरी सुख हैं और कल्पित हैं, माना हुआ है| सुख तो परमानेन्ट होता है|सुख खुद के अंदर है, आत्मा में है| अत: जब आत्मा प्राप्त करता है, तब सनातन (सुख) प्राप्त होगा| अधिक जाने प्रस्तुत पुस्तक द्वारा| More
Download: epub

Also by Dada Bhagwan

Explore This Book's Contribitor:

Deepakbhai Desai (editor)

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.

Print Edition

Audiobook Edition

Report this book