पाप-पुण्य (In Hindi)

कोई भी काम जिससे दूसरों को आनंद मिले और उनका भला हो, उससे पुण्य बंधता है और जिससे किसीको तकलीफ हो उससे पाप बंधता है| अगर हम अपनी भूलो का पश्चाताप करते है, तो हम पाप बंधनों से छूट सकते है|पाप और पुण्य की सही समझ पाने के लिए पढ़े.. More
Download: epub

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.

Print Edition

Report this book