आप्तवाणी-८

सारे आध्यात्मिक शास्त्रों, उपदेशों और क्रियाओं का सार एक ही है –खुद को जानना| जो हम स्वयं हैं वह पूर्ण शुद्ध है, लेकिन ‘मैं कौन हूँ’ की धारणा गलत है। इस पुस्तक में यह गलत धारणा ज्ञानीपुरुष द्वारा दूर की गई है। More
Download: epub

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.

Print Edition

Report this book