Bheegi Palkein

यह प्यार का अंकुर तब फूटा था जब शबीना भारत आई हुई थी अपने एक रिश्तेदार के पास। अपने परिवार को छोड़कर अपने प्रेम को पाने के लिए फतहखान पाकिस्तान पहुंच गया और… कैसे उसने अपने दिन काटे? क्या उसे उसकी मंजिल मिल पायी? क्या हुआ उन दोनों के प्यार का हश्र? जानने के लिए पढ़ते रहिए - भीगी पलकें More

Available ebook formats: epub pdf lrf pdb txt html

First 20% Sample: epub lrf pdb Online Reader
Words: 18,720
Language: Hindi
ISBN: 9788193448328
About Dr. Fakhre Alam Khan Vidyasagar

डॉ. फखरे आलम खान 'विद्यासागर' एक जाने-माने साहित्यकार है। आपने अब तक सैकड़ो कहानियां, व्यंग्य और कविताएं लिखी है। उनकी कई पुस्तके प्रकाशित हो चुकी है। खान साहब अब डिजिटल दुनिया में भी कदम रख चुके है क्योंकि अब तक उन्होने प्रिन्ट एडिशन में भी पाठकों में अपनी अच्छी पकड़ बना रखी है।

Also by This Author

Also by This Publisher

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book