Kab Tak Humko Batoge

यह कविता कोष समर्पित है, मेरे उन सभी हिंदी पढ़ने और सुनने वालों को, जो कविता से और कवि की सोच से प्रेम करते हैं ! मैं सदा आभारी रहूँगा मेरे उन दोस्तों का, जिन लोगों ने मुझे डायरी दी लिखने के लिए । मैं सदा आभारी रहूँगा उस वक़्त का जिसने मेरे अंदर अच्छा लिखने का सामर्थ्य पैदा किया । मैं सदा आभारी रहूँगा इन साँसों का, जिन्होंने मेरा साथ दिया इन कविताओं को लिखने में ।

Available ebook formats: epub

About OnlineGatha

Publish Free Ebooks, Self Publisher,Publish your book, build a reader base and sell more copies. Available in both print and eBook formats in major online stores.Publish Fiction, Non-Fiction, Academic and Poetry books in English & Hindi.Download Free ebooks, buy online Book

Learn more about OnlineGatha

Also by This Author

Reviews

This book has not yet been reviewed.
Report this book