Umesh Puri

Biography

नाम-डॉ. उमेश पुरी 'ज्ञानेश्वर'
जन्मतिथि-2 जुलाई 1957
शिक्षा-बी.-एस.सी.(बायो), एम.ए.(हिन्दी), पी.-एच.डी.(हिन्दी)
सम्प्रति-ज्योतिष निकेतन सन्देश(गूढ़ विद्याओं का गूढ़ार्थ बताने वाला हिन्दी मासिक) पत्रिका का सम्पादन व लेखन। सन्‌ 1977 से ज्योतिष के कार्य में संलग्न
अन्य विवरण पुरस्कार आदि -
- विभिन्न विषयों पर 74 पुस्तकें प्रकाशित एवं अन्य पुस्तकें प्रकाशकाधीन।
- 6 ईबुक्स आॅनलाईन स्मैश वर्डस पर प्रसारित।
- 3 ईबुक अॅमेजन किंडल डायरेक्‍ट पब्‍लिशिंग पर आॅनलाईन प्रसारित।
- राष्ट्रीय स्तर की पत्र-पत्रिकाओं में अनेक लेख, कहानियां एवं कविताएं प्रकाशित।
- युववाणी दिल्ली से स्वरचित प्रथम कहानी 'चिता की राख' प्रसारित।
- युग की अंगड़ाई हिन्दी साप्ताहिक में उप-सम्पादक का कार्य किया।
- क्रान्तिमन्यु हिन्दी मासिक में सम्पादन सहयोग का कार्य किया।
- भारत के सन्त और भक्त पुस्तक पर उ.प्र.हिन्दी संस्थान द्वारा 8000/- रू. का वर्ष 1995 का अनुशंसा पुरस्कार प्राप्त।
- रम्भा-ज्योति(हिन्दी मासिक) द्वारा कविता पर 'रम्भा श्री' उपाधि से अलंकृत।
- चतुर्थ अन्तर्राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन-1989 में ज्योतिष बृहस्पति उपाधि से अलंकृत।
- पंचम अन्तर्राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन-1991 में ज्योतिष भास्कर उपाधि से अलंकृत।
- फ्यूचर प्वाईन्ट द्वारा ज्योतिष मर्मज्ञ की उपाधि से अलंकृत।
मेरा कथन-'मेरा मानना है कि जीवन का हर पल कुछ कहता है जिसने उस पल को पकड़ कर सार्थक बना लिया उसी ने उसे जी लिया। जीवन की सार्थकता उसे जी लेने में है।'

Where to find Umesh Puri online


Where to buy in print


Books

Bodhamrit
Price: $1.25 USD. Words: 20,090. Language: Hindi. Published: August 30, 2016. Categories: Fiction » Inspirational
बोध कथाएं प्रेरक होती हैं और वे एक सीख देती हैं। उस सीख को जीवन में अपनाने से जीवनपथ उन्नति की ओर अग्रसर होता है। वस्तुतः बोध कथाओं की सीख को जीवन में व्यवहार में लाने पर वे सार्थक हो जाती हैं और पढ़ने वाले का जीवन सार्थक हो जाता है। बोधामृत नामक पुस्तक में प्रेरक व जीवनोपयोगी 101 बोधकथाएं आपके उपयोग के लिए संकलित कर रहे हैं। ये अापको जीवन में नई सीख के साथ उन्‍नत पथ पर अग्रसर अवश्‍य करेंगी।
Anokha Pyar
Price: $1.50 USD. Words: 25,060. Language: Hindi. Published: August 12, 2016. Categories: Fiction » Romance » Fantasy
वसुन्‍धरा ने अपने पति को क्‍यों त्‍याग दिया...? क्‍या वह अपने पति से दोबारा मिली या नहीं यह जानने के लिए पढ़ें...?? बदसूरत बादल का क्‍या हुआ, क्‍या उसे अपना प्‍यार मिला या नहीं...??? इन उपरोक्‍त प्रश्‍नों के उत्‍तर जानने के लिए पढ़ें...एक अनोखी प्रेम कहानी अनोखा प्‍यार...
Chakshopanishada
Price: Free! Words: 1,390. Language: Hindi. Published: July 23, 2016. Categories: Nonfiction » Philosophy » Hindu
चाक्षुषोपनिषत् की चर्चा करेंगे वह नेत्रों से संबंधित है। यह उपनिषद् कृष्ण यजुर्वेदीय परम्परा के अन्तर्गत आता है। इस उपनिषद् में नामानुरूप नेत्ररोग दूर करने की सामर्थ्य है। इस उपनिषद में सर्वप्रथम इसकी महत्ता बतलायी गई है। तदोपरान्त इस उपनिषद के ऋषि, देवता, छन्द और विनियोग की चर्चा की गई है। उसके उपरान्त इसमें सूर्य देवता से नेत्र रोग दूर करने की प्रार
Suryopanishada
Price: Free! Words: 1,470. Language: Hindi. Published: July 8, 2016. Categories: Nonfiction » Philosophy » Hindu
यह सूर्योपनिषद् अथर्ववेदीय परम्परा से संबंध रखता है। इस लघु उपनिषद में आठ श्लोकों में ब्रह्मा और सूर्य की अभिन्नता वर्णित है और बाद में सूर्य व आत्मा की अभिन्नता प्रतिपादित की गई है।

Umesh Puri's tag cloud

atharaveda    atharavveda    fiction    hindu dharma    inspiration    love    philosiphy    postive thinking    quotos    romance    story    upanishada    vedas