अलबेलिया

बचपन से लेखन का शौक रखने वाले ये जिन्दगी को बड़ी बारीकी से देखते हैं और हर मोड़ पर खुद को एक जूझारु इंसान बनाए रखना पसंद करते हैं. ‘अलबेलिया’ में इनकी सारी कहानियां जिन्दगी के अलग-अलग खेमे से आईं हैं. इनका हरएक पात्र अपने हिस्से की जिंदगी में जूझता हुआ नजर आएगा, जो आपको हमेशा अहसास कराएगा कि जिन्दगी का असली मजा तो परिस्थितियों से जूझते रहने में है, न कि हार मान कर बैठ जाने में. More

Available ebook formats: mobi pdf lrf pdb txt html

First 10% Sample: mobi (Kindle) lrf pdb Online Reader
Words: 42,440
Language: Hindi
ISBN: 9781311594778
About Govind Pandit 'Swapnadarshi'

Govind Pandit,
Post Graduate, living in Bangalore, India.
Hobbies : Reading & Writing.

Print Edition

Report this book