Fiction » Literature » Literary criticism

Sub-categories: Short Stories | American / General | European / English, Irish, Scottish, Welsh | Books & Reading | Women Authors | Poetry | Asian / General | Medieval | Drama | Science Fiction & Fantasy | Humor | Shakespeare | All sub-categories >>
Vikramorvasiyam (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 5,720. Language: Hindi. Published: November 23, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
एक बार देवलोक की परम सुंदरी अप्सरा उर्वशी अपनी सखियों के साथ कुबेर के भवन से लौट रही थी। मार्ग में केशी दैत्य ने उन्हें देख लिया और तब उसे उसकी सखी चित्रलेखा सहित वह बीच रास्ते से ही पकड़ कर ले गया। यह देखकर दूसरी अप्सराएँ सहायता के लिए पुकारने लगीं, "आर्यों! जो कोई भी देवताओं का मित्र हो और आकाश में आ-जा सके, वह आकर हमारी रक्षा करें।" उसी समय प्रतिष्ठान देश के राजा पुरुरवा भगवान सूर्य की उपासना
Marriage in Pride and Prejudice
By
Price: $0.99 USD. Words: 5,230. Language: English. Published: November 20, 2014. Category: Essay » Literature
This is a scholarly essay about marriage expectations in the Regency period as expressed in Jane Austen’s Pride and Prejudice. It explores the different relationships between the sexes in the novel, and what the options were for women who were not yet married during this period. Including photographs taken during a Jane Austen pilgrimage to England, it's a must read for all "Janites".
Durgadas (Hindi)
By
Price: $1.99 USD. Words: 23,320. Language: Hindi. Published: October 23, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
जोधपुर के महाराज जसवन्तसिंह की सेना में आशकरण नाम के एक राजपूत सेनापति थे, बड़े सच्चे, वीर, शीलवान् और परमार्थी। उनकी बहादुरी की इतनी धाक थी, कि दुश्मन उनके नाम से कांपते थे। दोनों दयावान् ऐसे थे कि मारवाड़ में कोई अनाथ न था।, जो उनके दरबार से निराश लौटे। जसवन्तसिंह भी उनका :बड़ा आदर-सत्कार करते थे। वीर दुर्गादास उन्हीं के लड़के थे। छोटे का नाम जसकरण था।
Vardan
By
Price: $2.99 USD. Words: 46,840. Language: Hindi. Published: October 23, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
विन्घ्याचल पर्वत मध्यरात्रि के निविड़ अन्धकार में काल देव की भांति खड़ा था। उस पर उगे हुए छोटे-छोटे वृक्ष इस प्रकार दष्टिगोचर होते थे, मानो ये उसकी जटाएं है और अष्टभुजा देवी का मन्दिर जिसके कलश पर श्वेत पताकाएं वायु की मन्द-मन्द तरंगों में लहरा रही थीं, उस देव का मस्तक है मंदिर में एक झिलमिलाता हुआ दीपक था, जिसे देखकर किसी धुंधले तारे का मान हो जाता था।
¡BUENA SUERTE, AMIGO!
By
Price: $2.50 USD. Words: 90,330. Language: Spanish. Published: October 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Business
Le tocó la lotería y ahora tiene miedo. Quiere proteger a su familia, la tranquilidad de su vida. Descubre cómo se puede ganar muchos millones y no volverse loco.
Narrative, Nature, and the ‘Cock’ and ‘Bull’ Story: The Lockean Tristram Shandy and the Modern Novel
By
Price: $2.99 USD. Words: 12,440. Language: English. Published: September 30, 2014 by Problematic Press. Category: Essay » Literature
Laurence Sterne’s Life and Opinions of Tristram Shandy, Gentleman (1760) is one of the first English novels to stray from Aristotle's classical literary structures. Tiller's paper explores how this deviation leads Tristram, in the series of events stemming from his birth, to a more precise imitation of nature than, perhaps, adherence to such guidelines could have procured.
The Lost Podcast
By
Series: Short Stories, Book 1. Price: $0.99 USD. Words: 2,490. Language: English. Published: August 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
A father and son, one present, and one absent, share realities in a notably different New Yorker Fiction Podcast in 'The Lost Podcast', a story by Laurie Steed. "Laurie's enthusiasm for his craft is wonderfully infectious; his writing is honest and elegant. I recommend him in every way." – Brigid Lowry
Wallpaper
By
Series: Short Stories, Book 2. Price: $0.99 USD. Words: 2,830. Language: English. Published: August 20, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
(5.00 from 1 review)
Cracks start to show in the fabric of a family during their daughter's piano recital in 'Wallpaper', a story by Laurie Steed. "Laurie Steed's stories are sometimes tender, sometimes brutal, and always beautifully written. He is a writer to watch." – Ryan O'Neill
Glass Eyes: A Short Story about a Family's Struggle
By
Price: Free! Words: 4,600. Language: English. Published: July 21, 2014. Category: Fiction » Literature » Literary
Five-year-old Kate struggles to understand what is happening to her world as she witnesses her father's deepening depression. In the midst of her family’s turmoil, Kate finds solace in her grandfather’s upstairs apartment, though she is troubled by the stuffed fox in his bedroom. As Kate tries to adapt to the changes in her life, the fox becomes a symbol of what she fears.
What They Wrote: In Praise of Dark Fiction
By
Price: $2.99 USD. Words: 26,930. Language: English. Published: July 4, 2014 by Crossroad Press. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
What They Wrote is a collection of introductions, articles, and reviews by Jack Ketchum of various horror novels and collections. Included here are introductions for works by Edward Lee, Stanley Wiater, Barry Hoffman, Kealan Patrick Burke, Thomas Tessier, P.D. Cacek, Lucy Taylor, Tim Lebbon, and T.M. Wright. Also included are reviews of two Stephen King novels and a John Carpenter movie.
Two Sister (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 5,650. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
दोनों बहनें दो साल के बाद एक तीसरे नातेदार के घर मिलीं और खूब रो-धोकर खुश हुईं तो बड़ी बहन रूपकुमारी ने देखा कि छोटी बहन रामदुलारी सिर से पाँव तक गहनों से लदी हुई है, कुछ उसका रंग खुल गया है, स्वभाव में कुछ गरिमा आ गयी है और बातचीत करने में ज्यादा चतुर हो गयी है। कीमती बनारसी साड़ी और बेलदार उन्नावी मखमल के जम्पर ने उसके रूप को और भी चमका दिया-वही रामदुलारी, लडक़पन में सिर के बाल खोले,
Srishti (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 6,140. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
(अदन की वाटिका, तीसरे पहर का समय। एक बड़ा सांप अपना सिर फूलों की एक क्यारी में छिपाये हुए और अपने शरीर को एक वृक्ष की शाखाओं में लपेटे हुए पड़ा है। वृक्ष भलीभांति च़ चुका है, क्योंकि सृष्टि के दिन हमारे अनुमान से कहीं अधिक बड़े थे। सर्प उस व्यक्ति को नहीं दिखाई दे सकता जिसको उसकी विद्यमानता का ज्ञान नहीं है, क्योंकि उसके हरे और भूरे रंग के मेल से धोखा होता है।
Rahsya (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 5,480. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
विमल प्रकाश ने सेवाश्रम के द्वार पर पहुँचकर जेब से रूमाल निकाला और बालों पर पड़ी हुई गर्द साफ की, फिर उसी रूमाल से जूतों की गर्द झाड़ी और अन्दर दाखिल हुआ। सुबह को वह रोज टहलने जाता है और लौटती बार सेवाश्रम की देख-भाल भी कर लेता है। वह इस आश्रम का बानी भी है, और संचालक भी। सेवाश्रम का काम शुरू हो गया था। अध्यापिकाएँ लड़कियों को पढ़ा रही थीं, माली फूलों की क्यारियों में पानी दे रहा था
Namak ka Droga (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 3,290. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
जब नमक का नया विभाग बना और ईश्वरप्रदत्त वस्तु के व्यवहार करने का निषेध हो गया तो लोग चोरी-छिपे इसका व्यापार करने लगे। अनेक प्रकार के छल-प्रपंचों का सूत्रपात हुआ, कोई घूस से काम निकालता था, कोई चालाकी से। अधिकारियों के पौ-बारह थे। पटवारीगिरी का सर्वसम्मानित पद छोड-छोडकर लोग इस विभाग की बरकंदाजी करते थे। इसके दारोगा पद के लिए तो वकीलों का भी जी ललचाता था।
Meri Pahli Rachna (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 1,990. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
उस वक्त मेरी उम्र कोई १३ साल की रही होगी। हिन्दी बिल्कुल न जानता था। उर्दू के उपन्यास पढ़ने-लिखने का उन्माद था। मौलाना शरर, पं० रतननाथ सरशार, मिर्जा रुसवा, मौलवी मुहम्मद अली हरदोई निवासी, उस वक्त के सर्वप्रिय उपन्यासकार थे। इनकी रचनाएँ जहाँ मिल जाती थीं, स्कूल की याद भूल जाती थी और पुस्तक समाप्त करके ही दम लेता था। उस जमाने में रेनाल्ड के उपन्यासों की धूम थी। उर्दू में उनके अनुवाद धड़ाधड़ निकल रहे
Manovratti Aur Lanchan (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 6,260. Language: Hindi. Published: July 3, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary
मनोवृत्ति एक सुंदर युवती, प्रात:काल, गाँधी-पार्क में बिल्लौर के बेंच पर गहरी नींद में सोयी पायी जाय, यह चौंका देनेवाली बात है। सुंदरियाँ पार्कों में हवा खाने आती हैं, हँसती हैं, दौड़ती हैं, फूल-पौधों से खेलती हैं, किसी का इधर ध्यान नहीं जाता; लेकिन कोई युवती रविश के किनारे वाले बेंच पर बेखबर सोये, यह बिलकुल गैर मामूली बात है, अपनी ओर बल-पूर्वक आकर्षित करने वाली। रविश पर कितने आदमी चहलकदमी कर रहे
Mangal Sutra (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 15,200. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
प्रेमचन्द का जन्म ३१ जुलाई सन् १८८० को बनारस शहर से चार मील दूर समही गाँव में हुआ था। आपके पिता का नाम अजायब राय था। वह डाकखाने में मामूली नौकर के तौर पर काम करते थे। आपके पिता ने केवल १५ साल की आयू में आपका विवाह करा दिया। विवाह के एक साल बाद ही पिताजी का देहान्त हो गया। अपनी गरीबी से लड़ते हुए प्रेमचन्द ने अपनी पढ़ाई मैट्रिक तक पहुंचाई। जीवन के आरंभ में आप अपने गाँव से दूर बनारस पढ़ने के लिए
Kankaal (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 67,340. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
प्रतिष्ठान के खँडहर में और गंगा-तट की सिकता-भूमि में अनेक शिविर और फूस के झोंपड़े खड़े हैं। माघ की अमावस्या की गोधूली में प्रयाग में बाँध पर प्रभात का-सा जनरव और कोलाहल तथा धर्म लूटने की धूम कम हो गयी है; परन्तु बहुत-से घायल और कुचले हुए अर्धमृतकों की आर्तध्वनि उस पावन प्रदेश को आशीर्वाद दे रही है। स्वयं-सेवक उन्हें सहायता पहुँचाने में व्यस्त हैं। यों तो प्रतिवर्ष यहाँ पर जन-समूह एकत्र होता है...
Kafan (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 3,070. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
झोपड़े के द्वार पर बाप और बेटा दोनों एक बुझे हुए अलाव के सामने चुपचाप बैठे हुए हैं और अन्दर बेटे की जवान बीबी बुधिया प्रसव-वेदना में पछाड़ खा रही थी। रह-रहकर उसके मुँह से ऐसी दिल हिला देने वाली आवाज़ निकलती थी, कि दोनों कलेजा थाम लेते थे। जाड़ों की रात थी, प्रकृति सन्नाटे में डूबी हुई, सारा गाँव अन्धकार में लय हो गया था। घीसू ने कहा-मालूम होता है, बचेगी नहीं। सारा दिन दौड़ते हो गया, जा देख तो आ।
Holi Ka Uphar (Hindi)
By
Price: $0.99 USD. Words: 2,150. Language: Hindi. Published: June 28, 2014 by Sai ePublications. Category: Fiction » Literature » Literary criticism
मैकूलाल अमरकान्त के घर शतरंज खेलने आये, तो देखा, वह कहीं बाहर जाने की तैयारी कर रहे हैं। पूछा-कहीं बाहर की तैयारी कर रहे हो क्या भाई? फुरसत हो, तो आओ, आज दो-चार बाजियाँ हो जाएँ। अमरकान्त ने सन्दूक में आईना-कंघी रखते हुए कहा-नहीं भाई, आज तो बिलकुल फुरसत नहीं है। कल जरा ससुराल जा रहा हूँ। सामान-आमान ठीक कर रहा हूँ। मैकू-तो आज ही से क्या तैयारी करने लगे? चार कदम तो हैं। शायद पहली बार जा रहे हो?